ताजा खबर
क्‍या पाक‍िस्‍तान में फ‍िर होगा तख्‍तापलट? जनता के ‘खौफ’ में Pakistan Army   ||    ‘टूट गए हैं हम, लेकिन चाहते हैं कि’; Youtube की पूर्व CEO ने बेटे की मौत पर फेसबुक पोस्ट क्यों लिखी?   ||    आख‍िर कैसे गाना गाती हैं व्‍हेल मछल‍ियां? वैज्ञान‍िकों ने ढूंढ न‍िकाला जवाब   ||    Meow Meow ‘जहर’, दुनिया में सबसे खतरनाक; 53 देशों में बैन, फिर भी इंडिया कैसे पहुंची 3500 करोड़ की ख...   ||    वोट के लिए शराब-पैसे नहीं, बांटे जा रहे कंडोम! आंध्र प्रदेश की दो पार्टियों पर लगा आरोप   ||    X और केंद्र के बीच फिर बढ़ सकता है तनाव, क्या इस आदेश को मानेगी कंपनी?   ||    Petrol Diesel Price Today: दिल्ली एनसीआर समेत अन्य शहरों में कितने रुपये लीटर हुआ पेट्रोल और डीजल?   ||    क्यों लेनी PayTm FASTag को बंद करने की टेंशन? जब मिनटों में हो सकेगा Port, जानें तरीका   ||    PPF-SSY: छोटी बचत योजनाओं के निवेशक सावधान, 31 मार्च से पहले निपटाएं ये काम; वरना   ||    IND Vs ENG: रांची टेस्ट से एक दिन पहले प्लेइंग 11 का ऐलान, टीम में हुए 2 बड़े बदलाव   ||   

सूर्य के वायुमंडल में है कोरोना |

Posted On:Saturday, April 10, 2021

कोरोनल लूप उज्ज्वल, घुमावदार संरचनाएं हैं जो सूर्य की सतह के ऊपर आर्क्स के रूप में दिखाई देती हैं। गर्म प्लाज्मा इन छोरों को चमक देने का कारण बनता है।

कोरोना आमतौर पर सूर्य की सतह के उज्ज्वल प्रकाश से छिपा होता है। यह विशेष उपकरणों का उपयोग किए बिना देखना मुश्किल है। हालांकि, सूर्य ग्रहण के दौरान कोरोना देखा जा सकता है।
 

सूर्य ग्रहण के दौरान, चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य के बीच से गुजरता है। जब ऐसा होता है, तो चंद्रमा सूर्य की तेज रोशनी को रोक देता है। चमकदार सफेद कोरोना तब ग्रहण किए गए सूर्य के आसपास देखा जा सकता है। कोरोनल लूप कई आकारों में आते हैं।

कुछ लूप बेहद गर्म होते हैं, जिनका तापमान एक लाख डिग्री से अधिक होता है।
 

सूर्य की सतह में चुंबकीय क्षेत्रों का  है। सूर्य का चुंबकीय क्षेत्र कोरोना में आवेशित कणों को प्रभावित करता है और इससे सुन्दर फीचरस बनता है | हम इन फीचरस को विशेष दूरबीनों के साथ विस्तार से देख सकते हैं। 1724 में, फ्रांसीसी-इतालवी खगोल विज्ञानी जियाकोमो एफ माराल्दी ने मान्यता दी कि सूर्य ग्रहण के दौरान दिखाई देने वाली आभा सूर्य से संबंधित है, चंद्रमा से नहीं। 1809 में, स्पेनिश खगोलशास्त्री जोस जोक्विन डी फेरर ने 'कोरोना' नाम रखा । फ्रांसीसी खगोल विज्ञानी जूल्स जेन्सेन ने 1871 और 1878 के बीच अपने रीडिंग की तुलना करने के बाद उल्लेख किया, कि कोरोना का आकार सूर्यास्त चक्र के साथ बदलता है।
 

कोरोनल लूप्स की आबादी 11 साल के सौर चक्र के साथ बदलती है, जो कि सनस्पॉट की संख्या को भी प्रभावित करती है।

 


लखनऊ और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. Lucknowvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.