ताजा खबर
वानखेड़े स्टेडियम में प्रदर्शन के बाद धोनी ने युवा प्रशंसक को मैच बॉल गिफ्ट की   ||    फैक्ट चेक: मंदिर से पानी पीने के लिए नहीं, फोन चोरी के शक में की गई थी इस दलित बच्ची की पिटाई   ||    Navratri 2024: नवरात्रि के 7वें दिन करें सात उपाय, नौकरी और कारोबार में मिलेगी सफलता   ||    यूपीएससी रियलिटी चेक: उत्पादकता, घंटे नहीं, सबसे ज्यादा मायने रखती है; आईएएस अधिकारी का कहना है   ||    Breaking News: Salman Khan के घर के बाहर हुई फायरिंग, बाइक सवार 2 हमलावरों ने चलाई गोली, जांच में जु...   ||    चुनाव प्रचार के दौरान राहुल ने लिया ब्रेक, अचानक मिठाई की दुकान पर पहुंचे, गुलाब जामुन का उठाया लुत्...   ||    13 अप्रैल: देश-दुनिया के इतिहास में आज के दिन की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ   ||    अमेरिकी खुफिया विभाग का कहना है कि ईरान अगले 48 घंटों में इजरायल पर हमला करेगा   ||    रोहन गुप्ता, पूर्व कांग्रेस प्रवक्ता, बीजेपी के बढ़ते रोस्टर में शामिल हैं   ||    'नया शीत युद्ध': अमेरिका में चीनी भूमि स्वामित्व के खिलाफ बढ़ता आंदोलन   ||   

आख‍िर कैसे गाना गाती हैं व्‍हेल मछल‍ियां? वैज्ञान‍िकों ने ढूंढ न‍िकाला जवाब

Photo Source :

Posted On:Thursday, February 22, 2024

क्या आपने समुद्र के विशाल जीव व्हेल को गाते हुए सुना है? अगर आपको पानी के अंदर गोता लगाने का मौका मिले तो आप व्हेल को गुनगुनाते हुए सुन सकते हैं। अब वैज्ञानिकों ने इसके पीछे का रहस्य खोज लिया है। वैज्ञानिक काफी समय से इस अजीब आवाज के पीछे का कारण जानने की कोशिश कर रहे हैं। हंपबैक और बेलीन व्हेल ऐसी आवाजें निकालने में अधिक माहिर हैं। वैज्ञानिकों ने इस रहस्य को तो सुलझा लिया लेकिन शोध में एक चिंताजनक बात भी सामने आई। ये बेचारे खूबसूरत जीव भी हम इंसानों की वजह से परेशान हैं.

बेलीन व्हेल समूह में लगभग 14 प्रजातियाँ पाई जाती हैं। इनमें ब्लू, हंपबैक, राइट, मिन्के और ग्रे व्हेल शामिल हैं। इन मछलियों की खास बात यह है कि इनके दांत नहीं बल्कि प्लेटें होती हैं। इससे वे छोटी मछलियों के पूरे झुंड को एक ही बार में चबा जाते हैं। अब तक वैज्ञानिक यह पता नहीं लगा सके कि ये जीव पानी के अंदर कैसे गाते हैं। नेचर जर्नल में प्रकाशित एक रिपोर्ट इसी पर केंद्रित है. शोधकर्ता प्रोफेसर अल्लेमन्स इसे लेकर काफी उत्साहित हैं। उनकी टीम ने मृत व्हेल से ली गई तीन स्वरयंत्रों का प्रयोग किया, जिन्हें व्हेल के कंकाल से सावधानीपूर्वक हटा दिया गया था।

शोर से बचने के लिए यह रास्ता अपनाएं

शोधकर्ताओं ने इस विशाल ढांचे से होकर हवा गुजारी, जिसके बाद एक अलग तरह की आवाज सुनाई देने लगी। मनुष्यों में, ध्वनि कंपन के माध्यम से आती है, जबकि सिटासियन प्रजातियों में, ध्वनि यू-आकार की संरचना के माध्यम से यात्रा करती है। जब कंप्यूटर पर इसकी समीक्षा की गई तो पता चला कि व्हेल गाने की ध्वनि आवृत्तियों के ओवरलैप से आती है। शोध से यह भी पता चला है कि वह गाने में सक्षम नहीं हैं। ऐसा नहीं है कि वे जब चाहें तब गा सकते हैं और जब नहीं चाहेंगे तो नहीं गाएंगे, बल्कि समुद्र के शोर से बचने के लिए वे ऊंचे स्वर में गाना शुरू कर देते हैं।

हम इंसानों ने जीना मुश्किल कर दिया है

हम इंसानों ने धरती का कोई कोना नहीं छोड़ा, यहां तक ​​कि समुद्री जीव भी हमसे थक गए हैं। शोध से यह भी पता चला है कि समुद्र में बढ़ती नावों की संख्या और शोर के कारण इन व्हेलों का जीवन कठिन हो गया है। शोर इतना तेज़ होता है कि दूर समुद्र में अपने साथियों से बातचीत करने के लिए उन्हें इस अजीब आवाज़ का सहारा लेना पड़ता है। यह जानकारी इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे समुद्र में लुप्तप्राय प्रजातियों को बचाया जा सकता है। यह दशकों तक वैज्ञानिकों के लिए एक पहेली बनी रही।

Whales sing loud enough that their songs travel through the ocean, but knowing the mechanics behind that has been a mystery. https://t.co/xVDeZGJ5or

— PBS NewsHour (@NewsHour) February 21, 2024

इतिहास की झलक भी

बीबीसी न्यूज़ की रिपोर्ट के मुताबिक, यह ध्वनि समुद्री जीवन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, इसलिए अगर इसके बारे में कोई अध्ययन किया जाए तो यह बहुत महत्वपूर्ण है। शोधकर्ता इसे इसलिए भी खास मान रहे हैं क्योंकि इससे उन्हें इतिहास की झलक मिली है। उनका मानना ​​है कि इससे हमें यह समझने में मदद मिलेगी कि व्हेल के पूर्वज जमीन से पानी में कैसे लौटे थे, यह उनके बीच संचार की एक विशेष विधि के कारण ही संभव हो सका। व्हेल में इसका अध्ययन करना आसान है, जबकि डॉल्फ़िन, स्पर्म व्हेल और अन्य जीव भी ऐसी आवाज़ें निकालते हैं, लेकिन अभी तक इसका अध्ययन नहीं किया गया है।


लखनऊ और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. Lucknowvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.