ताजा खबर
Union Budget 2023 LIVE: जानें, आम बजट 2023 में क्या हुआ महंगा और क्या हुआ सस्ता? देखें पूरी लिस्ट   ||    Union Budget 2023-24 Live Updates : आम बजट 2023 में आम जनता को मिलेगा आर्थिक सरक्षंण, खोले जाएंगे 47...   ||    Union Budget 2023 Live Updates : पीएम आवास योजना के लाभार्थियों को मिला तोहफा !   ||    Union Budget 2023 Live : वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा, समावेशी विकास पर है बजट का फोकस   ||    Union Budget 2023 Live : वित्त मंत्री ने कहा, युवाओं के कृषि-स्टार्टअप को प्रोत्साहित करने वाला बजट ...   ||    Union Bedget 2023 Live Updates: वित्त मंत्री ने पेश किया बजट !   ||    Union Budget 2023 Live Updates : केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बजट 2023-24 को दी मंजूरी   ||    Union Budget 2023-24 Live updates : वित्तमंत्री सीतारमण राष्ट्रपति भवन पहुंचीं   ||    Union Budget 2023 Live Updates : वित्तमंत्री Sitaraman 11 बजे पेश करेंगी बजट !   ||    केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज पेश करेंगी पेपरलेस बजट !   ||   

जेएनयू कैंपस की दीवारों पर लिखे डराने वाले नारे 'ब्राह्मण कैंपस छोड़ो...', मामला दर्ज !

Posted On:Friday, December 2, 2022

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी एक बार फिर सुर्खियों में है। जी हां और इसकी वजह चौंकाने वाली है। दरअसल, जेएनयू कैंपस की दीवारों पर जाति-विरोधी नारे लिखे पाए गए हैं. जी हां, यहां ब्राह्मण और बनिया समुदाय के खिलाफ नारे लिखे गए हैं. यहां की दीवारों पर 'ब्राह्मण परिसर छोड़ो', 'रक्तपात होगा', 'ब्राह्मण भारत छोड़ो' और 'ब्राह्मणों और बनियों, हम तुम्हारे पास बदला लेने आ रहे हैं' लिखा हुआ है। आपको बता दें कि ये नारे हैरान करने वाले हैं और जेएनयू कैंपस की दीवारों पर इन्हें देखकर दहशत का माहौल पैदा हो गया है.

एबीवीपी ने इस प्रकोप के लिए वामपंथी छात्रों को जिम्मेदार ठहराया है। वीसी ने मामले की कड़ी निंदा करते हुए जांच के आदेश दिए। इस मामले में, छात्रों ने दावा किया कि ब्राह्मण विरोधी और बनिया विरोधी समुदायों के नारों के साथ स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज- II की इमारत में तोड़फोड़ की गई। आपको बता दें कि इस पूरे मामले में जेएनयू की एबीवीपी इकाई के अध्यक्ष रोहित कुमार ने कहा कि नारे रातोंरात लिखे गए थे और यह पता लगाने के लिए आसपास कोई सीसीटीवी कैमरा नहीं था कि यह किसने किया.

रोहित कुमार ने कहा, 'मैसेज से साफ है कि ये कैंपस में वामपंथी रुझान वाले छात्रों की डराने-धमकाने की रणनीति है. इन संदेशों के खिलाफ हमने शिकायत दर्ज कर प्रशासन को ज्ञापन सौंपा है। उन्होंने कहा कि शैक्षिक स्थलों का उपयोग बहस और चर्चा के लिए किया जाना चाहिए न कि छात्रों के समाज और समुदाय में जहर घोलने के लिए। आपको बता दें कि राजनीतिक रूप से सक्रिय परिसर जेएनयू अपनी दीवारों पर भित्तिचित्रों के लिए भी जाना जाता है। उभरती खबरों के अनुसार, जेएनयू शिक्षक संघ ने एक बयान में कहा कि रात में कई फैकल्टी कमरों में तोड़-फोड़ की घटनाओं के बारे में सुनना दुर्भाग्यपूर्ण है.

इसी के साथ जेएनयूटीए ने कहा, 'जेएनयूटीए इस बेहद निंदनीय कृत्य की निंदा करता है, जो न केवल संबंधित फैकल्टी के लिए दर्दनाक है, बल्कि सभी विचारों की विविधता और सहिष्णुता की भावना का भी उल्लंघन करता है, जिसके लिए जेएनयू खड़ा है.' संघ ने अब मांग की है कि जेएनयू प्रशासन तत्काल घटना की जांच करे, दोषियों की पहचान करे और विश्वविद्यालय के नियमों के अनुसार उनके खिलाफ कार्रवाई करे.


लखनऊ और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. Lucknowvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.